Thursday, November 29, 2012

कार्टून कुछ बोलता है -उज्जैन का खोता मेला


9 comments:

  1. दिखा पिछाड़ी जो रहा, रविकर वही अमूर्त |
    दो कौड़ी में बिक गया, लेता ग्राहक धूर्त |
    लेता ग्राहक धूर्त, राष्ट्रवादी यह खोता |
    खोता रोता रोज, यज्ञ आदिक नहिं होता |
    खुली विदेशी शॉप, खींचता उनकी गाड़ी |
    बनता लोमड़ जाय, अनाड़ी दिखा पिछाड़ी ||

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  4. कार्टून कुछ नहीं, बहुत कुछ बोलता है!

    ReplyDelete
  5. आजकल के अधिकाँश नेता (कुछ एक ), को छोड़कर मूर्खों की जमात के ही हैं ! सब कुछ बोलेंगे लेकिन मुद्दे पर स्थिर कभी नहीं रहते ! कब डंकी से हॉर्स पर स्विच कर ,जाते हैं पता ही नहीं लगता .

    ReplyDelete
  6. दमदार आर्थिक सोच यहीं से लागू की जा सकती है..

    ReplyDelete
  7. कमाल की प्रस्तुती

    ReplyDelete
  8. असल् बात तो यह है की मेले में एक से एक बड़े गधे आये हैं तो वे बोलेंगे क्या |वे तो एक सुर में राग अलाप सकते हैं |
    आशा

    ReplyDelete